सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग क्या है / What is Software Programming in Hindi

स्मार्टफोन या कंप्यूटर में आप तरह-तरह के एप्लीकेशन का उपयोग करते है या इन्टरनेट पर कोई वेबसाइट सर्फिंग करते हो एवं एंजॉय करते है लेकिन क्या आपने सोचा है की ये एप्लीकेशन या सॉफ्टवेयर कैसे बनते है और इन्हें कौन बनाता है? क्या मोबाइल या कंप्यूटर की इन एप्लीकेशन बनाने के लिये कोई एडवांस skill की आवश्यकता होती है|

ये सभी एप्लीकेशन और सॉफ्टवेयर Programming के द्वारा बनाये जाते है एवं इनको बनाने के लिये Programming Language का यूज़ किया जाता है| तो चलिये जानते है की प्रोग्रामिंग क्या होती है (What is Computer Programming In Hindi).

यह भी पढ़े:

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज क्या है?

सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग क्या होती है (what is programming in Hindi)

प्रोग्रामिंग वह विधि है जिसके द्वारा हम कंप्यूटर या मोबाइल की एप्लीकेशन या सॉफ्टवेयर बनाते है किसी भी सॉफ्टवेयर को बनाने से पहले छोटे छोटे programs बनाये जाते है उसके बाद उन सब प्रोग्राम को मिलाकर सॉफ्टवेयर बनाया जाता है|

इसलिये यह कहा जा सकता है की एक एप्लीकेशन या सॉफ्टवेयर छोटे-छोटे प्रोग्राम्स का समूह होता है| जो किसी विशेष कार्य को करने के लिये बनाया जाता है|

इसको बानाने के लिये कंप्यूटर या मशीन की भाषा में कोडिंग करनी पड़ती है उसके बाद ही ये प्रोग्राम बन पाते है अब आप ये सोच रहे हो की कोडिंग क्या बला है कोडिंग क्या होती है?

तो इसका भी जवाब हम दे देते है|

यह भी पढ़े:-

कोडिंग क्या होती है? (What is Coding)

जिस प्रकार हम आपस में बात करने के लिये कुछ शब्दों का इस्तेमाल करते है अगर हम किसी को बुलाते है तो इसके लिये अलग शब्द और वाक्य होता है जाने का कहते है तो इसके लिये अलग शब्द होता है|

इसी प्रकार अलग-अलग काम के लिये बात करने पर हम अलग-अलग शब्दों का प्रयोग करते है| ठीक उसी प्रकार जब हम मशीन को भी कोई इंस्ट्रक्शन या निर्देश देना चाहते है तो उसे उसी की भाषा में समझाना पड़ेगा ना|

जैसे अगर मोबाइल में हम फोटो को खोलते है तो इसके लिये भी कोड लिखना पड़ता है ठीक उसी तरह जब किसी फोटो को डिलीट करते है तो उसके लिये भी अलग कोड लिखना पड़ता है|

कंप्यूटर या मोबाइल या किसी भी डिजिटल मशीन में होने वाले हर कार्य के लिये कोडिंग की जाती है|

मशीन की भाषा हमारी भाषा से अलग होती है हम अपनी language में कुछ कोड लिखते है और वह कन्वर्ट हो कर मशीन की भाषा में बदल जाता है|

कोड लिखने की प्रक्रिया को कोडिंग कहते है इन कोड्स को हम इंस्ट्रक्शन भी कहते है|

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग में इवेंट और इंस्ट्रक्शन क्या है?

जैसे हम कीबोर्ड में कोई बटन दबाते है तो इसे इवेंट कहा जाता है एवं अगर माउस से किसी आप्शन पर क्लिक करते है तो इसे भी इवेंट कहा जाता है|

कंप्यूटर में ये इवेंट निर्देश कोड के द्वारा होते है जैसे हम किसी फाइल को डिलीट करने के लिये कीबोर्ड में डिलीट के बटन को दबाते है तो कंप्यूटर को निर्देश दिया जाता है की इस फाइल को डिलीट करो|

यदि कंप्यूटर में किसी फाइल को डिलीट करने से सम्बंधित कोड लिखा गया है की किसी भी फाइल को डिलीट करने से पहले इसकी जानकारी यूजर को दे एवं साथ इसमें yes और no का आप्शन भी हो, तो फाइल डायरेक्ट डिलीट नहीं होती है पहले डिलीट का बटन को दबाना पड़ता है

उसके बाद इसमें एक पॉप-अप बॉक्स ओपन हो गया जिसमे फाइल को डिलीट करने के लिये Yes और No के द्वारा पूछा जाता है उसके बाद ही Yes के आप्शन को सेलेक्ट करने के बाद ही फाइल डिलीट होगी|

Whats-is-programming-in-hindi

प्रोग्रामिंग Language कोड क्या होते है?

कोड वे शब्द होते है जिनके द्वारा कंप्यूटर या मशीन को समझाया जाता है की क्या कार्य करना है कब करना है कैसे करना है आदि|

ये कोड अलग-अलग प्रोग्रामिंग भाषा के अनुसार अलग-अलग होते है कंप्यूटर में प्रोग्रामिंग करने के के लिये कई तरह की लैंग्वेज होती है और प्रत्येक लैंग्वेज में अलग-अलग Syntex और कोड यूज़ होते है|

कार्य प्रणाली और purpose के अनुसार प्रोग्रामिंग भाषायें भी अलग होती है जैसे वेबसाइट बनाने के लिये अलग प्रोग्रामिंग भाषा का यूज़ करते है और मोबाइल की एप्लीकेशन बनाने के लिये अलग प्रोग्रामिंग भाषा का यूज़ किया जाता है|

कंप्यूटर की भाषायें कई प्रकार की होती है लेकिन इनको कोडिंग की प्रोसेस Working Process के अनुसार केटेगरी में विभाजित किया गया है जो आगे आपको बताई जा रही है|

सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग के प्रकार (Types Of Software programming In Hindi)

यहाँ पर हम ये नहीं जानने वाले है की कंप्यूटर की भाषायें कितनी है या कंप्यूटर की कौन-कौन सी लैंग्वेज है|

हम इस आर्टिकल में कंप्यूटर में होने वाली प्रोग्रामिंग के बारे में चर्चा करने वाले है की किस प्रकार की प्रोग्रामिंग प्रोग्रामिंग होती है|

सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग का विभाजन इनकी प्रोसेस और कार्यविधि के अनुसार अलग-अलग भागों में किया गया है|

Procedural Programming

इस प्रकार की प्रोग्रामिंग में अधिकतर इंस्ट्रक्शन को एक क्रम में लिखा जाता है और प्रोग्राम का Execution भी sequence में ही होता है|

Procedural Programming में यूजर या प्रोग्रामर यह बता देता है की कौनसी सी इंस्ट्रक्शन को फॉलो करना है|Procedural प्रोग्राम में यह भी decide कर दिया जाता है की क्या करना है और कैसे करना है?

इसमें सभी कार्य step by step ही होता है लेकिन जब प्रोग्राम बड़े हो जाते है तब यह प्रोग्रामिंग काम नहीं आती है क्यूंकि जितने बड़े प्रोग्राम होते है उनकी जटिलता भी उतनी ही अधिक हो जाती है जिससे प्रोग्राम में बहुत सारी समस्या आने लगती है|

इसलिये साधारण प्रोग्रामिंग के लिये तो procedural programming language होती है है लेकिन जब प्रोग्राम में एक्स्ट्रा फीचर जोड़ने की जरुरत होती है तब हमें एडवांस लैंग्वेज की जरुरत होती है और उनमे प्रोग्रामिंग करनी होती है|

Procedural Programming language Example:- FORTRAN, COBOL, ALGOL, BASIC, AND PASCAL.

यह भी पढ़े:

Functional programming Language

इस प्रकार की प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में जटिल प्रोग्राम को function में devide किया जाता है जैसे अगर आपने एक कैलकुलेटर का प्रोग्राम बनाया, जिसमे जोड़, घटाव, गुणा, भाग आदि ऑपरेशन होते है|

तो इन सभी ऑपरेशन के कोड को अलग-अलग फंक्शन में लिखा जाता है और सभी के लिये अलग फंक्शन बनाया जाता है|

जब भी अगर प्रोग्राम में जोड़ करने की जरुरत हो तो फिर से जोड़ करने का कोड बार-बार नहीं लिखना पड़ता है उसकी जगह पर जोड़ का फंक्शन ही उसे किया जाता है|जिससे प्रोग्राम की लम्बाई भी नहीं बढती है और कार्य भी हो जाता है|

इसको अच्छे से समझने के लिये , प्रोग्रामिंग में फंक्शन क्या होते है? यह समझना पड़ेगा| functional Programming भी Procedural programming का ही एक पार्ट है|

Functional प्रोग्रामिंग में C Language का सबसे अधिक उपयोग किया जाता है|

यह भी पढ़े:

Object-oriented Programming (OOP)

यह प्रोग्रामिंग एक विशेष ऑब्जेक्ट के कांसेप्ट पर होती है अभी के समय में जितनी भी मॉडर्न प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है सभी OOPs के कांसेप्ट पर ही काम करती है तो क्या है? ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग|

यह प्रोग्रामिंग Real World Entity पे डिपेंड होती है इस प्रकार रियल वर्ल्ड की समस्या को हल करने के लिये की जाती है| OOP में ऑब्जेक्ट की हेल्प से किसी प्रोसेस को किया जाता है|

इसमें data and functions को एक Class के अन्दर Bind किया जाता है एवं आवश्यकतानुसार उस data और फंक्शन को ऑब्जेक्ट की हेल्प से operate या उपयोग किया जाता है| किसी भी क्लास के data को ऑब्जेक्ट द्वारा एक्सेस किया जाता है|

Features Of Object Oriented Programming- OOPs प्रोग्रामिंग के फीचर

किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के कुछ फीचर होते है उसी प्रकार ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग के भी कुछ फीचर होते लेकिन इसके मुख्य रूप से 8 फीचर होते है|

  • Object
  • Class
  • Data Abstraction And Encapsulation
  • Inheritance
  • Polymorphism
  • Dynamic Binding
  • Message Passing

Conclusion

प्रोग्रामिंग एक प्रोसेस है कोड्स के द्वारा किसी भी मशीन को इंस्ट्रक्शन देने का प्रोग्रामिंग के द्वारा हम किसी भी मशीन को यह बताते है की कौनसा काम कब करना है कैसे करना है, आदि इसके अतिरिक्त प्रोग्रामिंग के रियल वर्ल्ड की प्रॉब्लम को सोल्व करने का भी एक माध्यम है|

अभी हमने सिर्फ प्रोग्रामिंग की बेसिक जानकारी ही दी है आगे हम इसके बारे में डिटेल में बात करने वाले है आपको हमारी प्रोग्रामिंग से जुडी यह जानकारी कैसी लगी हमें जरुर बताये| इस पोस्ट के माध्यम से आप जान ही गये होंगे की सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग क्या है (What Is Software Programming In Hindi?)

इसके आलावा अगर आपको लगता है की हमने इसमें कोई गलत जानकरी दी है वैसे तो कुछ भी गलत जानकारी हमने नहीं दी है लेकिन फिर भी यदि आपको कोई भी डाउट लगता है तो हमें कमेंट के माध्यम से जरुर बताये|

हमारे ब्लॉग पर आपका कीमती समय बिताने के लिये आपका दिन से-

धन्यवाद्

सिखों सिखाओं, देश को आगे बढाओं!

Leave a Comment